हम हैं आपके साथ

यह हमारी नवीनतम पोस्ट है:


कृपया हिंदी में लिखने के लिए यहाँ लिखे

आईये! हम अपनी राष्ट्रभाषा हिंदी में टिप्पणी लिखकर भारत माता की शान बढ़ाये.अगर आपको हिंदी में विचार/टिप्पणी/लेख लिखने में परेशानी हो रही हो. तब नीचे दिए बॉक्स में रोमन लिपि में लिखकर स्पेस दें. फिर आपका वो शब्द हिंदी में बदल जाएगा. उदाहरण के तौर पर-tirthnkar mahavir लिखें और स्पेस दें आपका यह शब्द "तीर्थंकर महावीर" में बदल जायेगा. कृपया "सच्चा दोस्त" ब्लॉग पर विचार/टिप्पणी/लेख हिंदी में ही लिखें.

मंगलवार, सितंबर 11, 2012

ईश्वर गुरप्रीत की आत्मा को शांति प्रदान करे

सरदार बी.एस.पाबला के पुत्र गुरप्रीत सिंह का एक पुराना चित्र  
 मैंने विगत दिन शनिवार को फेसबुक के मित्र संजीव तिवारी (https://www.facebook.com/tiwari.sanjeeva) की वाल पर पढ़ा कि-बहुत ही दुखद सूचना है कि हरदिल अजीज़ बी.एस.पाबला (https://www.facebook.com/bspabla) जी के युवा पुत्र गुरप्रीत सिंह (https://www.facebook.com/gurupreets)  का आकस्मिक निधन आज प्रात: भिलाई में हो गया. गुरप्रीत की अंतिम यात्रा कल 12 बजे दोपहर बी.एस.पाबला जी के रूआंबांधा, भिलाई निवास से निकलेगी. हम सब इस नाजुक और असह्य दुख की घड़ी में पाबला जी के साथ हैं.
सरदार बी.एस.पाबला के पुत्र गुरप्रीत सिंह का एक पुराना चित्र
ईश्वर गुरप्रीत की आत्मा को शांति प्रदान करे. यह पढ़कर यकीन नहीं हुआ और विश्वास नहीं हो रहा लेकिन सत्य को स्वीकार करना ही होता है. इस घटना ने हमें काफी दुःख पहुँचाया था इस कारण अगले दिन रविवार को फेसबुक पर किसी कार्य में मन नहीं लग रहा था. शनिवार को घटी एक घटना में हमारे मित्र सरदार बी.एस. पाबला (बहुत ही मददगार मित्र है वो, मुझे आज भी याद है जब मैंने ब्लॉग जगत में कदम रखा ही था. तब सबसे पहले उनका ही फोन आया था और काफी देर मुझसे बात की एवं समय-समय पर अनेकों तकनीकी जानकारी भी दी है) के युवा पुत्र गुरप्रीत सिंह की अल्पायु में डेथ हो गई और उनको भला कैसे सब्र आएगा ? उनको सब्र रखने के लिए बोलने वाले वो शब्द कहाँ से लेकर आऊं ? बड़ा मुश्किल होता है ऐसे पलों में किसी को भी समझाना. मगर मित्रता का तकाजा है कि उन्हे अकेलापन महसूस ना होने दिया जाए. पता नहीं क्यों भगवान भी इतने अच्छे व्यक्ति को ऐसे दुःख क्यों देते हैं ? दूसरी घटना में हमारी दूसरी फेसबुक की आई.डी किसी ने हैंग कर ली. उसमें गुरुमीत के दोस्त वैभव द्विवेदी(https://www.facebook.com/vaibhavrai86) से हमारी दोस्ती थी. उसके दोस्त तक भी हम अपनी सात्वना नहीं पहुंचा पा रहे थें.
Photo: आज फेसबुक पर किसी कार्य में मन नहीं लग रहा है. कल एक घटना में हमारे मित्र सरदार बी.एस. पाबला (बहुत ही मददगार मित्र है वो) के युवा पुत्र गुरप्रीत की अल्पायु में डेथ हो गई और उनको भला कैसे सब्र आएगा ? उनको सब्र रखने के लिए बोलने वाले वो शब्द कहाँ से लेकर आऊं ?  बड़ा मुश्किल होता है ऐसे पलों में किसी को भी समझाना. मगर मित्रता का तकाजा है कि उन्हे अकेलापन महसूस ना होने दिया जाए. पता नहीं क्यों भगवान भी इतने अच्छे व्यक्ति को ऐसे दुःख क्यों देते हैं ? दूसरी घटना में हमारी दूसरी फेसबुक की आई.डी किसी ने हैंग कर ली. उसमें गुरुमीत के दोस्त से हमारी दोस्ती थी. उसके दोस्त तक भी हम अपनी सात्वना नहीं पहुंचा पा रहे हैं.
मेरे मित्र सरदार बी.एस.पाबला

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही दु:खद समाचार है, यह समाचार मुझे दिल्ली में ब्लॉगर मित्र श्री कुमार राधारमण जी से मिला, उस रात मैं उन्हीं के घर में रुका था. हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि वह श्री पाबला जी तथा उनके परिवार को इस असीम दु:ख को सहने की शक्ति प्रदान करे.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. @अरुण कुमार निगम जी, हम सब इस दुःख की घड़ी में बी.एस.पाबला जी के साथ है.

      हटाएं
  2. अरे, यार मैँ तो शीर्षक देख कर चौंक गया। मेरा नाम भी तो गुरप्रीत है।
    ।।।।।।
    http://m.facebook.com/profile.php?id=203970516373065&fref=none&refid=17

    उत्तर देंहटाएं

अपने बहूमूल्य सुझाव व शिकायतें अवश्य भेजकर मेरा मार्गदर्शन करें. आप हमारी या हमारे ब्लोगों की आलोचनात्मक टिप्पणी करके हमारा मार्गदर्शन करें और हम आपकी आलोचनात्मक टिप्पणी का दिल की गहराईयों से स्वागत करने के साथ ही प्रकाशित करने का आपसे वादा करते हैं. आपको अपने विचारों की अभिव्यक्ति की पूरी स्वतंत्रता है. लेकिन आप सभी पाठकों और दोस्तों से हमारी विनम्र अनुरोध के साथ ही इच्छा हैं कि-आप अपनी टिप्पणियों में गुप्त अंगों का नाम लेते हुए और अपशब्दों का प्रयोग करते हुए टिप्पणी ना करें. मैं ऐसी टिप्पणियों को प्रकाशित नहीं करूँगा. आप स्वस्थ मानसिकता का परिचय देते हुए तर्क-वितर्क करते हुए हिंदी में टिप्पणी करें.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...